मूवी रिव्यू: फोर्स 2


http://ift.tt/2gtGVry

नई दिल्ली: इस शुक्रवार बॉक्स ऑफिस पर अभिनेत्री सोनाक्षी सिन्हा और जॉन अब्राहम की फिल्म फोर्स 2 रिलीज हई है. इस फिल्म में सोनाक्षी सिन्हा एक्शन करती दिखी हैं. फिल्म के निर्देशक अभिनय देव हैं और इसे विपुल अमृतलाल शाह ने प्रोड्यूस किया है. इस फिल्म को मिली जुली प्रतिक्रिया मिली है. किसी ने इसे देखने लायक बताया है तो किसी ने लिखा है कि अगर एक्शन के फैन हैं तभी देखिए नहीं तो कैश बचाइए क्योंकि वैसे ही दिक्कत चल रही है.

आइए आपको बताते हैं कि समीक्षकों ने इस फिल्म को लेकर क्या लिखा है-

हिंदुस्तान अखबार में विशाल ठाकुर 2.5 स्टार देते हुए इस फिल्म के बारे में लिखते हैं, ‘एक्शन का रोमांच अंत तक बना रहता है, लेकिन जिस ढंग से फिल्म बाद में करवट लेती है, उससे मायूसी होती है. जॉन का किरदार केवल तब तक आप पचा सकते हैं, जब आप ये मानते रहेंगे कि एसीपी से एजेन्ट्स बने इस किरदार को जॉन अब्राहम जैसे ‘शक्तिशाली’ इंसान ने निभाया है. ये किरदार केवल उनके ‘माचोइज्म’ पर केन्द्रित है और उसी पर टिका भी है, इसलिए निर्देशक ने रॉ जैसे विषय संग डील करने के लिए जॉन के अलावा किसी चीज पर बहुत गहराई से फोकस ही नहीं किया है. यही वजह है कि फिल्म में केके जैसे किरदार के लिए वह सोनाक्षी सिन्हा को कास्ट कर बैठे.

साथ ही उऩ्होंने लिखा है, ‘सोनाक्षी इस रोल के लिए बिलकुल मिसफिट लगी हैं. इस किरदार में फुर्ती ही नहीं दिखती. ऐसा लगता है कि किसी कॉन्वेंट स्कूल की लड़की अपने रसूखदार पिता से जिद करके रॉ में भर्ती हो गई है. केके का किरदार देख अक्षय कुमार की फिल्म ‘बेबी’ में तापसी पन्नू द्वारा निभाया गया प्रिया सूर्यवंशी का किरदार याद आता है, जो बेहद तेजी के साथ आता है और चला जाता है. पर देर तक याद रह जाता है. सोनाक्षी की भरी पूरी काया पहली बार खटकी है.’

force2_

बीबीसी हिंदी में इस फिल्म को सुशांत मोहन ने लिखा है, ‘पहले ही सीन से एक्शन से लबरेज़ इस फ़िल्म में आपको मनोरंजन का तड़का मिलेगा. अगर आप सिनेमा की कलात्मकता एक तरफ़ रखकर, सिर्फ़ मनोरंजन के लिए थिएटर में जा रहे हैं तो यह फ़िल्म आपको बांधेगी. जॉन ‘देसी हल्क’ हैं और कुछ एक दृश्य में बिल्कुल हॉलीवुड हीरो जैसा एक्शन करते नज़र आते हैं. ये प्रभावित करता है. फ़िल्म की सबसे बड़ी कमी है जॉन और सोनाक्षी का अभिनय. वो एक जैसा ही अभिनय करते हैं. हर फ़िल्म, हर दृश्य और लगभग हर फ़्रेम में. लेकिन जॉन जब एक्शन करते हैं तो एक्सप्रेशन की ग़लती माफ़.

दैनिक जागरण में इस फिल्म को 3.5 स्टार देते हुए अजय ब्रह्मात्ज ने लिखा है, ‘लेखक-निर्देशक की तारीफ करनी होगी कि उन्‍होंने ‘फोर्स 2’ को विषय से भटकने नहीं दिया है. फिल्‍म में गति है. पर्याप्‍त एक्‍शन है. जॉन अब्राहम एक्‍शन दृश्‍यों में यों भी अच्‍छे और विश्‍वसनीय लगते हैं. फिल्‍म में उनके किरदार को इस तरह गढ़ा गया है वे अपनी खूबियों के साथ फिल्‍म में दिखें. उनकी कमियों को उभरने का मौका नहीं मिला. एक-दो नाटकीय दृश्‍यों में जॉन अब्राहम संघर्ष करते दिखते हैं. उनके चेहरे पर नाटकीय भाव नहीं आ पाते. सोनाक्षी सिन्‍हा ने जॉन का गतिपूर्ण साथ निभाया है. वह भी रॉ अधिकारी की भूमिका में सक्षम दिखती हैं. एक्‍शन दृश्‍यों में कूद-फांद और दौड़ लगाने में उनकी सांस नहीं फूली है. इस फिल्‍म में कहीं भी केके के किरदार को अबला नहीं दिखाया गया है. यह एक चेंज है.’

मूवी रिव्यू: फोर्स 2 मूवी रिव्यू: फोर्स 2 Reviewed by Bollywood Guy on 01:08 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.